blogid : 316 postid : 1309295

जंगल में रहने वाले इस व्यक्ति ने जो किया शायद ही कोई कर पाए, मिल चुके है कई पुरस्कार

Posted On: 24 Jan, 2017 Common Man Issues में

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

772 Posts

830 Comments

जंगल को काटकर आधुनिक बनने की दौड़ और फिर जीने के लिए जंगल बचाने की चिंता से उपजे आंदोलन और सम्मेलन. आधुनिकता की मार झेल रहे हम इंसानों और जंगल की बीच सिर्फ इतना ही रिश्ता है. जरूरत का रिश्ता. इसके अलावा हमें हरियाली या वन से कोई खास लगाव नहीं है, लेकिन जरा, देश के आदिवासी इलाकों के बारे में सोचिए, जिनके लिए जंगल सिर्फ जरूरत नहीं बल्कि जीवन है. जंगल से उन्हें इतना प्रेम होता है कि एक पेड़ काटने पर इन्हें किसी अपने का खोने सा दुख होता है.

जंगल और जीवन से जुड़ी ऐसी ही कहानी है जादव पायेंग की. आइए, करीब से जानते हैं ‘जंगलमैन’ नाम से जाने जाने वाले पायेंग की.


jadav025


बाढ़ के वक्त अपनी जरूरतें नहीं इन्हें दिखा जंगल

पायेंग की उम्र आज करीब 55 साल है, लेकिन 24 साल की उम्र में उनकी जिंदगी में एक रोमांचक मोड़ उस वक्त आया जब असम में बाढ़ आ गई थी. बाढ़ की भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि असम में घर पूरी तरह तबाह हो गए थे. वहीं इंसान और जंगली जानवर भी काल का ग्रास बन चुके थे. ऐसे में हर कोई सरकार से मदद पाने के लिए राहत समाग्री पर आश्रित हो चुका था, लेकिन पायेंग को अपने खाने-पीने की चिंता से ज्यादा जंगल और पारिस्थितिकी तंत्र की थी. पायेंग ये अच्छी तरह जानते थे कि हालात सामान्य होने के बाद असम के लोगों को जंगल की ओर ही लौटना पड़ेगा. तब सरकार की ओर से कोई मदद नहीं आएगी.


jungleman 2


हालातों से लड़ते हुए नदियों के पास लगाए पेड़

पायेंग ने सबसे पहले अपने घर के पास मौजूद ब्रह्मापुत्र नदी के पास बंजर पड़ी जमीन पर पौधे लगाने शुरू किए. देखते ही देखते उन्होंने कई इलाके कवर कर लिए. करीब 30 साल की मेहनत के दौरान वो बंजर पड़ी जमीन पर 550 हेक्टेयर उपजाऊ भूमि बना चुके हैं. पायेंग के बसाए हुए जंगलों में आज कई जंगली जानवर रहते हैं, जो पायेंग के दोस्त बन चुके हैं. उनके नाम पर इन जंगलों का नाम रखा गया है.


jungleman


गांव वालों ने शुरू कर दिया था विरोध

ये 30 साल इस जंगलमैन के लिए आसान नहीं रहे. गांववालों की भलाई के लिए किए जा रहे काम के बदले उन्हें काफी अपमान भी सहना पड़ा, क्योंकि वो जिस जंगल को बना रहे थे, इस दौरान हरियाली देखकर कई जंगली जानवर गांवो में घुस आते थे और गांववालों के पालतू जानवरों को उठाकर ले जाते थे. इस वजह से गांव में दहशत फैल गई थी, लेकिन धीरे-धीरे हालात सामान्य होते गए. पायेंग ने गांव वालों को मनाकर अपना साथ देने के लिए कहा. गांववाले भी इस बात के लिए तैयार हो गए और फिर देखते ही देखते बंजर जमीन हरी हो गई.


jungleman 5


ऐसे बन गए भारत के पहले ‘फोरेस्टमैन’

उनके इस काम से प्रभावित होकर साल 2012 में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय ने उन्हें भारत का पहला फोरेस्टमैन की संज्ञा देने के साथ उन्हें, कई पुरस्कारों से नवाजा. सबसे खास बात ये कि तत्कालीन असम सरकार के अलावा राष्ट्रपति अब्दुल कलाम ने भी कई मंचों पर उनकी सराहना की थी. साल 2015 में उन्हें पद्मश्री पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है.


jungleman 7


असम में भगवान हैं जंगलमैन

असम में जंगल से जुड़ी हुई काफी समस्या हैं. कई इलाकों में तो नदियों के आसपास मिट्टी की समस्या भी गंभीर रूप ले चुकी थी. ऐसे में पायेंग का ये कदम किसी फरिश्ते से कम नहीं है. उन्होंने असम के लोगों की रोजगार से जुड़ी हुई समस्या को काफी हद तक कम कर दिया है. राज्य में उन्हें भगवान की तरह सम्मान दिया जाता है.

एक मशहूर कहावत है ‘अकेला चना भाड़ नहीं फोड़ सकता. जबकि जादव पायेंग की इस कहानी को सुनकर हकीकत कहावतों से अलग ही नजर आती है…Next


Read More :

एक जंगल की तरह है दुनिया का यह विशाल पेड़, भारत में है मौजूद

इस व्यक्ति की हिम्मत से प्राचीन मंदिर को किया गया पुनर्जीवित, नामी डाकू ने भी दिया साथ

राष्ट्रपति के लिए खाना बनाता है यह व्यक्ति, कुछ ऐसा है महामहिम का किचन


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग