blogid : 316 postid : 1192112

मारते-पीटते नहीं, बल्कि ये है किन्नरों के अंतिम संस्कार की सच्चाई

Posted On: 19 Jun, 2016 Common Man Issues में

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

1004 Posts

830 Comments

आपने कभी न कभी गौर किया होगा कि किन्नरों (ट्रांसजेंडर्स) के बारे में चर्चा होते ही सभी उनके बारे में एक जैसी बातें करने लगते हैं जैसे किन्नरों की मृत्यु के बाद उन्हें मारते हुए शमशान ले जाया जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि इनमें से सारी बातें सही नहीं होती बल्कि आधि बातें केवल कोरी भ्रम ही कही जा सकती है. आइए हम आपको बताते हैं कुछ ऐसी ही बातों के बारे में. आम धारणा है कि किन्नरों की मृत्यु के बाद उन्हें रात 12 बजे के बाद ले जाया जाता है लेकिन सच तो ये है कि किन्नरों की मृत्यु होने के बाद उसका अंतिम संस्कार उनके धर्म के अनुसार किया जाता है.


transgender 11


आम श्मशान घाट या कब्रिस्तान में ही किन्नरों का अंतिम संस्कार किया जाता है. हालांकि कोई किन्नर अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होता. दरअसल, वे महिलाओं की तरह रहते हैं. जैसे आम महिलाएं अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होती, वैसे ही किन्नर भी शामिल नहीं होते. इसके अलावा कई लोगों का ये भी कहना है कि किन्नरों का सीधा सम्पर्क भगवान से होता है इसलिए उनकी बद्दुआ नहीं लेनी चाहिए. साथ ही उनकी दुआएं भी बहुत जल्दी लगती है.


burial

इस भम्र का तथ्य ये है कि वो भी हमारी तरह सामान्य इंसान है. फर्क सिर्फ इतना है कि बचपन से लेकर बड़े होने तक वे दुख ही झेलते हैं. ऐसे में दुखिया दिल से निकली दुआ या बद्दुआ लगना स्वाभाविक है. महाभारत में किन्नर से जुड़े कई प्रसंग मिलते हैं जिनमें इनके अस्तित्व का महत्व समझ में आता है इसलिए हमें एक इंसान के तौर पर बिना किसी भेदभाव के इनकी इज्जत करनी चाहिए…Next


Read more

इनकी मौत पर नहीं था कोई रोने वाला, पैसे देकर बुलाई जाती थी

दंग रह गया मालिक जब महीनों बाद अपने खोये हुए कुत्ते से उसी जगह मिला

कोई अपनों से पीटा, तो किसी को अपनों ने लूटा

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग