blogid : 316 postid : 1379365

आधार को सुरक्षित करने के लिए अब वर्चुअल आईडी, जानें इसके बारे में सबकुछ

Posted On: 11 Jan, 2018 Common Man Issues में

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

1077 Posts

830 Comments

आधार की जानकारी सुरक्षित है या नहीं, इसे लेकर आए दिन चर्चा होती रहती है। हाल ही में आधार की सुरक्षा को लेकर आई खबर सुर्खियों में रही। अब आधार डाटा की सुरक्षा को मजबूत करने के लिए आधार अथॉरिटी यूआईडीएआई ने पुख्ता इंतजाम कर लिया है। इसके तहत जहां भी आधार डिटेल देने की जरूरत पड़ेगी, वहां आप अपनी वर्चुअल आईडी देंगे। इससे आपका आधार नंबर और अन्य डाटा पूरी तरह सुरक्षित रहेगा। आइये आपको बताते हैं कि कब से मिलनी शुरू होगी यह सुविधा और किस तरह से होगा इसका यूज।


aadhaar vertual ID


16 अंकों की होगी वर्चुअल आईडी


aadhar card1


वर्चुअल आईडी की सुविधा 1 मार्च से मिलनी शुरू हो सकती है। 1 जून से सभी एजेंसियों के लिए अनिवार्य हो जाएगा कि वे वर्चुअल आईडी स्वीकार करें। वर्चुअल आईडी आधार नंबर की तरह ही 16 अंकों की होगी। इसे आप जितनी बार चाहें, उतनी बार जनरेट कर सकेंगे। यह आईडी सिर्फ कुछ समय के लिए ही वैध रहेगी। इससे इस आईडी का गलत इस्तेमाल होने की आशंका बहुत कम रहेगी। वर्चुअल आईडी जनरेट करने के लिए आपको यूआईडीएआई की वेबसाइट पर जाना होगा। यहां एक नया टैब आ सकता है, जिसके जरिये आप हर काम के लिए एक नई वर्चुअल आईडी जनरेट कर सकेंगे।


इसकी मदद से हो जाएगा आधार से जुड़ा काम


aadhaar privacy


वर्चुअल आईडी जनरेट करने के बाद आपको जहां भी अपनी आधार डिटेल देनी है, वहां इस आईडी को देना होगा। आप इस आईडी को जिसे देंगे, वह इसकी मदद से आधार से जुड़ा काम पूरा कर लेगा। वर्चुअल आईडी से एजेंसियों को किसी के भी आधार की पूरी डिटेल की एक्सेस नहीं मिलेगी। इससे वह सिर्फ उतनी ही जानकारी देख या पा सकेंगी, जितना उनके लिए जरूरी है। वर्चुअल आईडी की व्यवस्था आने के बाद हर एजेंसी आधार वेरीफिकेशन के काम को आसानी से और पेपरलेस तरीके से कर सकेगी।


टोकन से आधार डिटेल वेरिफाई करेंगी एजेंसियां


aadhar card


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यूआईडीएआई सभी एजेंसियों को दो श्रेणियों में बांट देगी। इसमें एक स्थानीय और दूसरी वैश्विक श्रेणी होगी। इनमें से सिर्फ वैश्विक एजेंसियों को आधार नंबर के साथ ई-केवाईसी की एक्सेस होगी। वहीं, स्थानीय एजेसियों को सीमित केवाईसी की सुविधा मिलेगी। बताया जा रहा है कि यूआईडीएआई की ओर से हर आधार नंबर के लिए एक टोकन जारी किया जाएगा। इस टोकन के माध्‍यम से ही एजेंसियां आधार डिटेल को वेरीफाई कर सकेंगी। यह टोकन नंबर हर आधार नंबर के लिए अलग होगा, जो स्थानीय एजेसियों को दिया जाएगा…Next


Read More:

TV के इन 5 चाइल्ड आर्टिस्‍ट की कमाई है जबरदस्‍त, एक एपिसोड की फीस है इतनी ज्‍यादा!
शास्‍त्री ने पहले अपने बच्‍चों पर आजमाया, फिर देश को दिया एक दिन उपवास का नारा!
राहुल द्रविड़ के वो 7 बड़े कारनामे, जो उन्‍हें बनाते हैं महान बल्‍लेबाज


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग