blogid : 5617 postid : 580004

आज पूछो आसमाँ से

Posted On: 13 Aug, 2013 Others में

शब्दस्वरJust another weblog

vaidya surenderpal

79 Posts

344 Comments

एक गज़ल प्रस्तुत कर रहा हुँ…
——————-
* आज पूछो आसमां से *
.
आज पूछो आसमां से क्या सभी आजाद हैं,
देश में क्यों बन गये आतंक के हालात हैं।
.
खून में जिनके भरा है नफरतोँ का ही जहर,
देश में फिर पल रहे क्योँ हर जगह जल्लाद हैं।
.
वादियां जो महकती थी केसरी सौगात से,
दुश्मनोँ का खेल खूनी क्यों वहां जेहाद हैं।
.
वस्त्र खादी के पहनकर लूटते हैं देश को,
भ्रष्ट हाथोँ में तिरंगे के घुटे जज़्बात हैं।
.
देश के सैनिक हिफाजत के लिये तैयार हैं,
किन्तु सत्ता ही हमारी सुस्त औ बेहाल है।
.
लूटते हैं देश का धन घर भरे जो जा रहे,
देश की पावन धरा पर बहुत भद्दे दाग हैं।
.
——————-
-सुरेन्द्रपाल वैद्य।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग