blogid : 5617 postid : 1234164

चंचल तितली ले उड़ी

Posted On: 22 Aug, 2016 Others में

शब्दस्वरJust another weblog

vaidya surenderpal

79 Posts

344 Comments

Fantasia Painting(41)

(कुण्ड़लिया छंद)
**********************
चंचल तितली ले उड़ी, फूलों से मकरंद।
और मचलती शान से, बगिया बीच स्वछंद।
बगिया बीच स्वछंद, फूल अनगिन हैं खिलते।
साथ आ गए भ्रमर, मधुर मधु गुंजन करते।
श्वेत ओस की बूंद, धूप खिलनेपर पिघली
मगर बहुत है व्यस्त, देखिए चंचल तितली।
**********************
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग