blogid : 5617 postid : 690121

जिस मोड़ पर (contest)

Posted On: 19 Jan, 2014 Others में

शब्दस्वरJust another weblog

vaidya surenderpal

79 Posts

344 Comments

*जिस मोड़ पर*
——————-

वो हमें जिस मोड़ पर मिलते रहे हैं,
घाव दिल के फिर हरे करते रहे हैं।
.
फासले ही जब हकीकत बन गये हैं,
तब हवा में पुल सदा ढहते रहे हैं।
.
है बहुत छोटी मगर ये जिंदगानी,
हौंसले तो रोज ही बढ़ते रहे हैं।
.
पंख हैं फौलाद के जिन पंछियों के,
वो समंदर पार ही करते रहे हैं।
.
आसमां से टूटते हैं जो सितारे,
प्रेमियों को वो सदा भाते रहे हैं।
.
बीज जो मिट्टी तले ही सो गये थे,
पेड़ बनकर वो सदा फलते रहे हैं।
.
प्यास वे बादल बुझा सकते नहीं हैं,
जो गरजकर ही सदा उड़ते रहे हैं।
——————-
-सुरेन्द्रपाल वैद्य।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग