blogid : 5617 postid : 686189

मकर संक्रांति (कांटेस्ट)

Posted On: 13 Jan, 2014 Others में

शब्दस्वरJust another weblog

vaidya surenderpal

82 Posts

344 Comments

*मकर संक्रांति*
——————-
.
सूर्यदेव के प्रखर तेज का,
पावन पर्व मकर संक्रांति।
.
सही दिशा में परिवर्तन का,
देता यह सन्देश युगों से।
यतो धर्मः ततो जयः की,
दैवीय ओजमयी ऊर्जा से।
.
स्वर्णिम तेज और पुण्यों की,
जन जीवन को होती प्राप्ति।
.
भीष्म पितामह थे रण स्थल में,
अर्जुन के बाणों से लथपथ,
निज मृत्यु को रोक प्रतीक्षा,
की थी मकर संक्रांति तक।
.
इच्छामृत्यु से प्राणों को,
इसी समय तज पाई सद्गति।
.
इसी समय सुरसरि गंगा जी,
भागीरथ के पीछे चलकर।
सागर में विलीन हुई थी,
कपिल मुनि के आश्रम होकर।
.
नदियोँ की रक्षा करने हित,
कर्म मार्ग पर बढ़ें नित्यप्रति।

——————-
-सुरेन्द्रपाल वैद्य।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग