blogid : 312 postid : 488

भ्रष्टाचार की दौड़ में सबसे आगे कौन [Commonwealth Games Blog]

Posted On: 13 Aug, 2010 Sports में

खेल संसारकौन जीता कौन हारा कौन बना सरताज, खेलों की दुनियां का लिखते सब हाल

Sports Blog

517 Posts

269 Comments


जी हां आगामी कॉमनवेल्थ गेम्स में सरकार अपनी नाकामी छुपाने के लिए हर तिकड़म अपनाने को तैयार है. कॉरपोरेट जगत में जिस तरह बढ़िया ब्रांडिंग कर सड़े माल को भी बेच दिया जाता है उसी तरह गरीबी, बदहाली और खामियों को छुपा सरकार कॉमनवेल्थ देशों के सामने अपनी सुधरी छवि रखना चाहती है.

COMMONWEALTH_GAMES_DE_5159eऑस्ट्रेलिया की कंपनी स्पो‌र्ट्स मार्केटिंग एंड मैनेजमेंट जो एक असफल कंपनी है उसे 25 करोड़ का बोनस कमीशन दिया गया. प्रायोजक जुटाने में नाकाम रही स्मैम को टीम कलमाड़ी ने मूल्यांकन से पहले ही चुन लिया था. एक ऐसी कंपनी जिसे लोग सही से जानते भी नहीं और मार्किट में जो सबसे नाकामयाब कंपनी मानी जाती है उसे देश की इज्जत बचाने में सहयोगी बनाया जाता है. यही नहीं स्मैम को उन सब कामों के लिए भी कमीशन देना तय हो गया जो उसे करने ही नहीं थे. असल बात यह है कि कंपनी ने खुद कमीशन का जो ढांचा सुझाया उसे नकार कर 22.5 प्रतिशत कमीशन की सबसे ऊंची दर तय की गई और तो और उसे अलग से मैनेजमेंट फीस के तौर पर 25.31 करोड़ रुपये का ‘बोनस’ कमीशन देना भी तय हुआ. स्मैम कंपनी को प्रायोजन संबंधी कुछ ऐसे कामों के लिए भी कमीशन मिला जो उसे करने ही नहीं थे.

imagesतो वहीं अब तक कॉमनवेल्थ घोटाले से दूर रहे कलमाड़ी पर कैग की टेढ़ी नजर पड़ चुकी है. केंद्रीय सतर्कता आयोग के बाद अब सरकारी ऑडिटर कैग को राष्ट्रमंडल खेल महासंघ के प्रमुख माइकल फेनेल एवं भारतीय प्रमुख सुरेश कलमाड़ी के आदेश पर राजस्व नुकसान, वित्तीय अनियमितताओं एवं अधिक भुगतान करने वाले प्रमाण मिले हैं. सरकार को भेजी अपनी जांच रिपोर्ट में नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने वित्तीय अनियमितता के दर्जनों मामले गिनाए हैं जिनमें से एक मामला ऐसा है जिसमें फेनेल, कलमाड़ी और सीजीएफ के सीईओ माइक हूपर के निर्देश पर प्रसारण अधिकार दिए जाने में आयोजन समिति को 24 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हुआ है. कैग द्वारा खेल मंत्रालय को भेजी गई रपट में कहा गया है, “बिना उचित मूल्यांकन के सलाहकार का चयन किए जाने और सलाहकार की सेवाओं में खामियों के चलते राष्ट्रमंडल खेलों की आयोजन समिति को परियोजना में 24.60 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ.” भारत में राष्ट्रमंडल खेल तीन अक्तूबर से शुरू होने वाले हैं. इससे पहले ही वित्तीय अनियमितताओं को लेकर विवादों की जंग बढ़ती चली जा रही है.

तो बात साफ रही कि इस कॉमनवेल्थ गेम्स से पहले ही कई रिकॉर्ड टूट जाएंगे. बेईमानी, भ्रष्टाचार और घोटालों का ऐसा रिकॉर्ड बनेगा कि आने वाले समय में इसे तोड़ पाना किसी के बस में नहीं होगा.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग