blogid : 312 postid : 1365128

जिस मार्शल आर्ट में ब्लैक बेल्ट हैं राहुल गांधी, उसका भारत से है खास कनेक्शन

Posted On: 2 Nov, 2017 Sports में

खेल संसारकौन जीता कौन हारा कौन बना सरताज, खेलों की दुनियां का लिखते सब हाल

Sports Blog

459 Posts

269 Comments

हाल ही में सोशल मीडिया पर राहुल गांधी की काले-सफेद रंग की ड्रेस पहने हुए फोटो खूब वायरल हुई, जिसमें राहुल किसी मास्टर जैसे आदमी के साथ मार्शल आर्ट की प्रैक्टिस करते हुए नजर आ रहे थे. इस फोटो के बारे में कहा जा रहा था कि ये फेक फोटो है. लेकिन फिर खबर आई कि फोटो बिल्कुल असली है और राहुल बाबा आइकीडो में ब्लैक ब्लेट हैं. अब ऐसे में सभी के दिमाग में सवाल कौंधा कि आखिर ये आइकीडो क्या है? गूगल पर अचानक ही आइकीडो सर्चिंग में इजाफा होने लगा. आइए, हम आपको बताते हैं कि आइकीडो क्या है और भारत से इसका क्या कनेक्शन है?


rahul gandhi


आइकीडो क्या है

आइकीडो एक मार्शल आर्ट है. जिसकी उत्पति जापान से हुई है. आइकीडो को ‘भाईचारे की राह’ भी कहा जाता है. आइकीडो के दीवाने सिर्फ जापान ही नहीं बल्कि दुनिया भर में फैले हुए हैं. आइकीडो किसी पर हमला करके अपनी शक्ति का प्रदर्शन करना नहीं सिखाता बल्कि ये एक रक्षात्मक शैली है. जिसका इस्तेमाल खुद को और अकेले इंसान को बचाने के लिए किया जाता है. कराटे की तरह ही आइकीडो में लंबी छलांग, हवा में कलाबाजियां करना, फांदना, मुक्केबाजी आदि कलाएं शामिल हैं.



rahul gandhi 1



जापान की धरोहर माना जाता है आइकीडो

आइकीडो ज्यादा पुरानी कला नहीं है. 20वीं सदी में आइकीडो अस्तित्व में आया. जापान के मार्शल आर्ट गुरु माने जाने वाले मोरहेई येशिबा ने इसे बनाया है. कहा जाता है कि येशिबा मार्शल आर्ट से जुड़ी दुनिया भर की कई कलाएं जानते थे. उन्होंने दुनिया के कई देशों में घूमकर तरह-तरह की कलाओं के बारे में खूब रिसर्च की. जापान में उन्हें लोग ‘ओसेनसेई’ भी बोलते हैं. जापानी में इसका मतलब होता है ‘बड़े मास्टर साहब’. येशिबा के बारे में कहा जाता है कि वो बहुत सख्त गुरू थे, आइकीडो को वो मार्शल आर्ट नहीं बल्कि कठोर साधना मानते थे.


meditation


भारत से है खास कनेक्शन

जब येशिबा ने कई देशों की यात्रा की है, तो जाहिर है वो भारत में भी आए होंगे. आइकीडो में एक पड़ाव है, ध्यानमुद्रा का. जो भारत से लिया गया है. माना जाता है कि आइकीडो में मन को शांत रखने के लिए और सही-गलत की पहचान करने के लिए ध्यान यानि मेडिकेशन बेहद जरूरी है. इसके बिना आइकीडो बेहद खतरनाक हथियार साबित हो सकता है.

आइकीडो का सार है कि  अंदरूनी शांति यानि मन की शांति होने पर सबकुछ पाया जा सकता है. …Next


Read More:

भारत के अमीर क्रिकेटरों में शामिल हैं गंभीर, शहीदों के बच्चों की पढ़ाई का उठाते हैं खर्च

इस क्रिकेटर के साथी खिलाड़ी ने दिया था धोखा, पत्नी की वजह से आज भी है दुश्मनी

कभी 400-500 रुपये के लिए दूसरे गांव जाते थे दोनों भाई, आज हैं स्टार खिलाड़ी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग