blogid : 312 postid : 391

भारत पर जीत के साथ श्रीलंका ने दिया मुरली को तोहफा

Posted On: 22 Jul, 2010 Sports में

खेल संसारकौन जीता कौन हारा कौन बना सरताज, खेलों की दुनियां का लिखते सब हाल

Sports Blog

519 Posts

269 Comments

119640शायद टीम इंडिया को नंबर एक बनकर रहना पसंद नहीं है. पहले एकदिवसीय क्रिकेट में नंबर वन बने लेकिन ज़्यादा दिन टिक नहीं सके और अब टेस्ट क्रिकेट में भी नंबर वन की कुर्सी उन्हें चुभने लगी है. भारत और श्रीलंका के मध्य खेले गए पहले टेस्ट मैच में भी यही कुछ देखने को मिला.

गाले श्रीलंका में 18 तारीख से भारत और श्रीलंका के बीच मैक्रोमैक्स कप का पहला मैच शुरू हुआ. मैच इसलिए भी महत्वपूर्ण था क्योंकि यह महान आफ स्पिनर मुरलीधरन का आखिरी टेस्ट मैच भी था. मुरलीधरन ने इस मैच के बाद अंतराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट से सन्यास लेने की घोषणा कर दी है अतः श्रीलंका के सभी खिलाड़ी यह मैच जीतकर मुरलीधरन को जीत की सौगात भेंट करना चाहते थे. मुरलीधरन भी स्वयं इस मैच में अपने टेस्ट मैच करियर में 800 विकेट लेकर एक कीर्तिमान हासिल करना चाहते थे जिसे अभी तक किसी भी गेंदबाज़ ने नहीं किया था.

119463टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करने उतरी श्रीलंका की शुरुआत बहुत अच्छी हुई और इसका पूरा श्रेय भारतीय गेंदबाजों को भी जाता है जिन्होंने परर्णविताना और संगकारा को शॉट खेलने का पूरा मौका दिया. चोट के कारण जूझ रहे हरभजन सिंह तो लय ही नहीं पकड पाए वहीं इशांत शर्मा तो हमेशा भटकते नज़र आए. थोड़ा बहुत प्रभावित अपना पहले मैच खेल रहे अभिमन्यु मिथुन ने किया. पहले दिन कप्तान संगकारा और परर्णविताना दोनों ने अपने बल्लों से कमाल दिखाया और दोनों ने शतक लगाया. पहले दिन का खेल खत्म होते-होते श्रीलंका ने दो विकेट खोकर 256 रन बना लिए थे और अपनी स्थिति बहुत मज़बूत कर ली थी.

[videofile]http://mvp.marcellus.tv/player/1/player/waPlayer.swf?VideoID=http://cdn.marcellus.tv/2962/flv/38570916107222010175941.flv::thumb=http://cdn.marcellus.tv/2962/thumbs/&Style=5902′ type=’application/x-shockwave-flash[/videofile]
दूसरे दिन के खेल पर इंद्र देवता का छाया रहा और पूरे दिन बारिश को देख ऐसा प्रतीत हो रहा था कि जैसे इंद्र देवता भी आज टीम इंडिया के साथ हैं. तीसरे दिन का खेल इशांत शर्मा और अभिमन्यु मिथुन की घातक गेंदबाज़ी से शुरू हुआ और एक समय ऐसा लग रहा था कि मानो एक दिन के आराम के बाद भारतीय गेंदबाज़ों में नयी जान आ गई है, जिसके सामने श्रीलंकाई बल्लेबाजों की एक नहीं चलने वाली. एक समय जब श्रीलंका का स्कोर 7 विकेट पर 379 रन था तो ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे अब श्रीलंका 400 का आंकड़ा भी पार नहीं कर पाएगी.
119522
लेकिन यह भारतीय टीम है जो जब उत्साहित हो तो समझ लीजिए अब लापरवाही का दौर आने वाला है और हुआ भी यही जब रंगना हेराथ और मलिंगा ने अपने करियर की सबसे अच्छी पारी खेल श्रीलंका का स्कोर 8 विकेट पर 520 तक पहुंचाया और भारत के सामने एक मजबूत चुनौती रख दी. हेराथ और मलिंगा दोनों ने अर्धशतक लगाया.

ज़वाब में भारत की शुरुआत अच्छी नहीं रही और गौतम गंभीर केवल दो रन बनाकर आउट हो गए, इसके बाद सहवाग और द्रविड़ ने संभलकर खेला परन्तु दिन का खेल खत्म होते-होते भारत ने सचिन का विकेट भी खो दिया. तीसरे दिन का खेल खत्म होने पर भारत ने तीन विकेट पर 140 रन बना लिए थे.

पतन की शुरुआत

चौथा दिन जब शुरू हुआ तो सहवाग ने अपना शतक पूरा किया लेकिन शतक लगाने के बाद सहवाग आउट हो गए. सहवाग के आउट होने के पश्चात भारत की पारी का पतन शुरू हुआ. लक्ष्मण, धोनी और दूसरे खिलाड़ी कुछ ज़्यादा नहीं कर पाए केवल युवराज ही थे जिन्होंने अर्धशतक लगाया लेकिन इसके बावज़ूद भी भारत फालोऑन नहीं बचा पाया और उसकी पहली पारी 276 रन पर सिमट गयी.

फालोऑन के बाद खेलने आई भारतीय टीम दबाव में दिख रही थी जिसके कारण एक बार फिर उनकी शुरुआत अच्छी नहीं रही और दोनों सलामी बल्लेबाज़ केवल 42 रन पर पवीलियन लौट गए. इसके बाद सचिन और द्रविड़ ने पारी संभाली और तीसरे विकेट के लिए 119 रन जोड़े.

12मलिंगा का कहर

सचिन और द्रविड़ की जोड़ी को आउट करने के लिए श्रीलंकाई कप्तान संगकारा ने मलिंगा को गेंद थमाई जिसका फ़ायदा तुरंत हुआ. मलिंगा ने पहले द्रविड़ फिर सचिन को आउट कर भारत की पारी लड़खड़ा दी. चौथे दिन के खेल की समाप्ति तक भारत ने 181 रन पर 5 विकेट खो दिया था और अब भी वह श्रीलंका की पहले पारी के जवाब में 63 रन पीछे था.

भारत की हार

अगर इशांत शर्मा, अभिमन्यु मिथुन और प्रज्ञान ओझा रन बना सकते हैं तो भारतीय स्टार बल्लेबाज़ क्यों नहीं. कुछ ऐसा ही हुआ पांचवें दिन जब भारत टीम केवल 338 रन पर आउट हो गयी और श्रीलंका ने मैच 10 विकेट से जीत लिया.

पांचवें दिन भारत की तरफ से लक्ष्मण ने अच्छी पारी खेली और उनका साथ इशान और मिथुन ने निभाया परन्तु यह पारियाँ भारत की हार टालने के लिए काफ़ी नहीं थीं.

119642मुरली ने रचा इतिहास

भारत की दूसरी पारी का आखिरी विकेट लेते ही मुरलीधरन विश्व टेस्ट क्रिकेट इतिहास में 800 विकेट लेने वाले पहले बल्लेबाज़ हो गए. उन्होंने यह कारनामा 133 मैच में किया. आखिर में हम सभी की तरफ़ से इस महान क्रिकेटर को सलाम.

The First Test Match between India and SriLanka started on 18th July at Galle. It was also the last test match of the great Off Spinner Muttiah Muralidharan. Srilanka dominated the rain affected test match right from the first day. Captain Sangakara and Opener Paranavitana scored centuries and Srilanka declared their first inning at 520. In reply India just manages 276 in their first inning. Sehwag for India was the only star as he scored his 20th century Test Century and India was forced to follow on. Indian second inning was no difference and could manage 338 runs. Requiring just 95 runs to win Srilankan Opener made the work shot and Sri Lanka won the match by 10 wickets. This Test Match also saw a history being created as Sri Lankan off spinner becomes the only player in the history to bag 800 Test wickets.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग