blogid : 2262 postid : 610807

ईश्वरचंद्र विद्यासागर की कहानियां

Posted On: 27 Nov, 2013 Others में

कहानियांकहानियां जन-जन की यादों और जिंदगी की तस्वीरों को तरोताजा करती हैं. इंसान को रूमानी दुनियां में ले जाने वाली कहानियों का स्वागत है इस ब्लॉग मंच पर

Story Blog

120 Posts

28 Comments

जब ईश्वरचंद्र विद्यासागर जी ने चप्पल फेंकी

फिर एक चप्पल चली. रोज ही कहीं ना कहीं यह पदत्राण थलचर हाथों में आ कर नभचर बन अपने गंत्वय की ओर जाने की नाकाम कोशिश करते नज़र आने लगे हैं. अब यह जनता की दबी भड़ास का नतीजा हैं या प्रायोजित कार्यक्रम, यह खोज का विषय है. पर वर्षों पहले भी एक चप्पल चली थी, वह भी एक ऐसे इंसान के हाथों जो अपने समय के प्रबुद्ध और विद्वान पुरुष थे.


बात ब्रिटिश हुकुमत की है. बंगाल में नील की खेती करनेवाले अंग्रेजों जिन्हें, नील साहब या निलहे साहब भी कहा जाता था, के अत्याचार , जोर-जुल्म की हद पार कर गये थे. लोगों का जीवन नर्क बन गया था. इसी जुल्म के खिलाफ कहीं-कहीं आवाजें भी उठने लगी थीं. ऐसी ही एक आवाज को बुलंदी की ओर ले जाने की कोशीश में थे कलकत्ते के रंगमंच से जुड़े कुछ युवा. ये अपने नाटकों के द्वारा इन अंग्रेजों की बर्बरता का मंचन लोगों के बीच कर विरोध प्रदर्शित करते रहते थे . ऐसे ही एक मंचन के दौरान इन युवकों ने ईश्वरचन्द्र विद्यासागर जी को भी आमंत्रित किया. उनकी उपस्थिति में युवकों ने इतना सजीव अभिनय किया कि दर्शकों के रोंगटे खड़े हो गये. खासकर निलहे साहब की भूमिका निभाने वाले युवक ने तो अपने चरित्र में प्राण डाल दिये थे. अभिनय इतना सजीव था कि विद्यासागर जी भी अपने पर काबू नहीं रख सके और उन्होंने अपने पैर से चप्पल निकाल कर उस अभिनेता पर दे मारी. सारा सदन भौचक्का रह गया. उस अभिनेता ने विद्यासागर जी के पांव पकड़ लिए और कहा कि मेरा जीवन धन्य हो गया. इस पुरस्कार ने मेरे अभिनय को सार्थक कर दिया. आपके इस प्रहार ने निलहों के साथ-साथ हमारी गुलामी पर भी प्रहार किया है. विद्यासागर जी ने उठ कर युवक को गले से लगा लिया. सारे सदन की आंखें अश्रुपूरित थीं.


मैं कस्बे में नया हूं

पंडित ईश्वरचंद्र विद्यासागर के मन में प्राणीमात्र के प्रति अथाह करुणा को देखकर उन्हें लोग करुणा देखकर उन्हें लोग करुणा का सागर कहकर बुलाते थे. असहाय प्राणियों के प्रति उनकी करुणा व कर्तव्यपरायणता देखते ही बनती थी. उन दिनों वे कोलकाता के एक समीपवर्ती कस्बे में प्राध्यापक के पद पर नियुक्त थे.


वातावरण में भयानक ठंड बढ़ गई. एक दिन शाम से ही बूँदाबाँदी हो रही थी. रात होते-होते मूसलाधार बारिश से वातावरण में भयानक ठंड बढ़ गई. ईश्वरचंद्र विद्यासागर अपने स्वाध्याय में व्यस्त थे, तभी किसी ने उनके दरवाजे पर दस्तक दी.


विद्यासागर ने एक अजनबी को दरवाजे पर खड़ा देखा. अपनेपन से उस अजनबी को घर के भीतर बुलाया. उसे अपने नए कपड़े देकर भीगे वस्त्र बदलने को कहा.


वह अतिथि उनके इस प्रेमभरे व्यवहार को देखकर भर्राये गले से बोला – ‘मैं इस कस्बे में नया हूँ, यहाँ मैं अपने एक मित्र से मिलने के लिए आया था. जब मैं उसके घर के बाहर पहुँचा तो पूछने पर पता चला कि वह इस कस्बे से बाहर गया हुआ है. ये सुनकर निरुपाय होकर मैंने कई लोगों से रात्रिभर के लिए शरण माँगी.


लेकिन सभी ने मुझे संदेह की दृष्टि से देखकर दुत्कार दिया. आप पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने ….”अरे भाई, तुम तो मेरे अतिथि हो. हमारे शास्त्रों में भी तो कहा गया है कि अतिथि देवो भव. मैंने तो सिर्फ अपना कर्तव्य निभाया है.’ कहकर ईश्वरचंद्र ने उस अतिथि के सोने के लिए बिस्तर व भोजन की व्यवस्था की. फिर अपने हाथ से अँगीठी जलाकर उसके कमरे में रख दी. सुबह जब वह अतिथि पंडित ईश्वरचंद्र से विदा लेने गया तो वे हँसकर बोले – ‘कहिए अतिथि देवता! रात को ठीग ढंग से नींद तो आई?’


अतिथि उनके सद्‍व्यवहार को मन ही मन नमन करते हुए बोला – ‘असली देवता तो आप हैं, जिसने मुझे विपदग्रस्त देखकर मदद की.’ पूरी जिंदगी उस व्यक्ति के मन में विद्यासागर की करुणामय छबि बसी रही.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.33 out of 5)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग