blogid : 11521 postid : 40

लो शिक्षक जी भी पीटा गए .

Posted On: 3 Mar, 2013 Others में

sudhblogहम कहाँ जा रहे हैं पता नहीं .....इसे खोजने की एक कोशिश

सुधीर कुमार सिन्हा

36 Posts

155 Comments

नालंदा के एकंगरसराय से एक खबर आई कि छात्राओं ने शिक्षक को पीट दिया । पीटने की वजह थी कि सरकार द्वारा दी जाने वाली पोशाक एवं साईकिल की राशि उन्हे नहीं मिली थी और आक्रोशित छात्राओं ने सामने पड़े शिक्षक को भी नहीं बख्शा । खबर सरकार की योजना और योजना से मिलनेवाले लाभ से वंचित बालिकाओं से संबन्धित थी पर थोड़ा इसके मूल में जाय तो एक बहुत बड़ा नैतिक संकट सामने आ रहा है जिसकी कल्पना हमारे बुजुर्गों ने वर्षों पहले की थी । इस प्रकार की घटना शायद पहली बार नहीं हुई इसलिए इसके प्रति चिंता स्वाभाविक है । ऐसा लगने लगा है कि गुरु – शिष्य संबंध में अब बिखराव आने लगा है । इसके लिए शिक्षक और छात्र दोनों ही ज़िम्मेवार माने जाते हैं । बहुत हद तक इसे बदलता हुआ समाज भी प्रभावित करता है । आज शिक्षा का बहुत विस्तार हुआ है और छात्र शिक्षा के प्रति जागरूक भी है पर जितनी रुचि बढ़ी है , शिक्षा का विस्तार हुआ है , समस्या भी उतनी बढ़ी है । हमारे शिक्षाविद बताते हैं कि आज बालकों की मानसिकता को पढ़कर , उसे जानकर , पहचान कर उनके अनुसार शिक्षा नहीं दी जाती , नतीजा बालक दिग्भ्रमित होता रहता है , चूंकि बालक शिक्षक द्वारा बताई हुई बातों को ठीक से नहीं समझ पाता तो उनके प्रति श्रद्धा भी नहीं रखता है । दूसरा कारण पाठ्यक्रम है , इस पाठ्यक्रम में नैतिक शिक्षा का कही समावेश नहीं उसपर से भारतीयता से जुड़ी बातों को भी सम्मिलित नहीं की जा रही है तो नैतिकता बालकों में आए तो कहाँ से । हम सभी जानते हैं कि भारतीय मनोविज्ञान की दृष्टि से किशोरावस्था में शारीरिक विकास के साथ –साथ मन और बुद्धि आपस में द्वंदात्मक संवाद करने लगते हैं । इस संवाद को रोकने के लिए हमारी प्राचीन गुरुकुल पद्धति तो कारगर थी पर आज की शिक्षा पद्धति नकारा साबित हो रही है । शिक्षा में आगे बढ़ रहे है पर विवेक नहीं आ रहा है । आज भारतीय किशोर वर्ग में सबसे बड़ी समस्या है कि वह कम से कम समय में अधिक से अधिक लाभ कमाना चाहता है । उसके लिए ज्ञान से ज्यादा अर्थ महत्वपूर्ण है । मन में सर्वश्रेष्ठ बनने की कामना किन्तु उसके अनुरूप व्यवहार एवं कठोर परिश्रम का न होना उनमें असंतोष का सूत्रपात करता है । फलस्वरूप किशोर वर्ग असत की ओर अग्रसर हो जाता है । हम सब महसूस कर रहे हैं कि आज का बालक पूर्ण रूप से अपने भविष्य एवं अपनी सफलता के प्रति अत्यधिक केन्द्रित और जागरूक है । उसके भविष्य और सफलता दोनों के हीं मानदंड भोतिक सुखोपभोग है । अतः वह अपनी भोतिक एवं सांसारिक सफलता के लिए जीवन मूल्यों तथा सिद्धांतों को भी बलि चढ़ा देने में नहीं हिचकता है । इसके उदाहरण भी सामने आ रहे हैं । सीमित साधन , कठिन प्रतिस्पर्धा जैसी अनेक समस्याओं से आज का बालक ग्रसित है । वह स्वयं निश्चित नहीं कर पाता कि कौन सी दिशा में बढ़ना उसके लिए श्रेयस्कर है । यदि उसे कौनसेललिंग भी प्राप्त हो जाता है तो शिक्षा के क्षेत्र में व्याप्त राजनीतिकरण , भ्रष्टाचार उसे और परेशान करता है । शिक्षा में राजनीति का ही परिणाम है कि शिक्षक जी पीट गए । लेकिन , बालकों को अंतर्द्वंदों से बचाने के लिए ऐसे शिक्षकों की जरूरत है जो स्वयं भारतीय मनोविज्ञान के आधारभूत प्रनियमों पर आचरण करते हुए बालकों को मार्गदर्शन एवं निर्देशन कर सकें । पर , क्या यह संभव है ? पिछले 20 वर्षों में जिस प्रकार की शिक्षा दी गई उसमे क्या हमने ऐसे शिक्षकों को बनाया है जो एक संस्कारयुक्त बालकों का निर्माण कर सके । हमारी शिक्षा प्रणाली के मूल मंत्र थे – सत्यं वद , धर्म चर ( धर्म का पालन करो ) स्वाध्याय मा प्रमद : ( स्वाध्याय में प्रमाद मत करों) मातृ देवो भव , पितृ देवो भव , आचार्य देवो भव ( माता ,पिता और आचार्य देव तुल्य हैं ) वृद्ध सेवया विज्ञान्म ( बृद्ध की सेवा से दिव्य ज्ञान होता है ) क्या इस प्रकार की शिक्षा आज दी जा रही है ? नहीं देने के कारण उपर्युक्त सूत्र आज कारगर नहीं दिखते और सभी बड़े उपेक्षित हैं । इस श्रेणी में यदि शिक्षक भी उपेक्षित होते हैं तो आश्चर्य की कोई बात नहीं । न शिक्षक वैसे हैं और न शिष्य वैसे बन रहे हैं । और न शिक्षा का लक्ष्य मोक्ष या निर्वाण प्राप्त करना रह गया है । यास्क मुनि ने शिक्षक की पाँच विशेषता बताई है । उन्होने कहा है कि एक शिक्षक को दूध , यम ,वरुण ,सोम और औषधि की तरह होना चाहिए लेकिन इस तरह की शिक्षा नहीं दी जाती और न शिक्षक अपने को इन विशेषताओं से परिपूर्ण करते हैं । यदि ऐसा हो जाय तो शिष्य भी अच्छा होगा । मित्रों , मैंने विषय को काफी संक्षेप में रखा है । भाव को समझने की जरूरत है । जिस मूल्यहीन शिक्षा को हम प्रश्रय दे रहे हैं उसमे यदि उसमें गुरु – शिष्य संबंध ठीक नहीं रहते और हमारे आचार्य पीट जाते हैं एवं बड़ों के प्रति आदर नहीं रहता तो सामाजिक संरचना को ध्वस्त होने में ज्यादा समय नहीं लगने वाला । मैं यह मानता हूँ कि हमारे शिक्षकों का भी पतन हुआ है पर शिक्षक शब्द आदर सूचक है । इसे आदरात्मक ही होना चाहिए । इसे पीटना नहीं चाहिए (शिक्षकों को भी अपने पद का भान होना चाहिए तदनुरूप कार्य करना चाहिए ) शिक्षक शब्द पीट गया तो मार्गदर्शन शब्द भी समाप्त हो जाएगा । इसलिए ,अभी भी समय है हर स्तर पर नैतिकता का पाठ पढ़ने – पढ़ाने पर बल दिया जाय । तभी एक स्वस्थ समाज की रचना संभव है ।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग