blogid : 21083 postid : 863846

मजदूर

Posted On: 23 Mar, 2015 Others में

divya jyoti mithila Just another Jagranjunction Blogs weblog

सुजीत कुमार

20 Posts

3 Comments

मजदूर हम सब
है, मजदूर
कोई पास, कोई अपनो
से है दूर
जीवन के इस
कड़ी मे,
तपता सब समय के
दरी मे,
सब का मंजिल
एक जरूर
खेप खाप के पार
गया कोई
जीता और हार
गया कोई
मेहनत से सब
है, चूर
भटक भटक के दोड
लगाये
खुद से खुद मे
होर लगाये
बजता है, किस का
सुर
चलो सबेरा होता जब
है,
अपना है पर
अपना कब है,
देख रहा सूरज
है, दूर

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग