blogid : 24196 postid : 1196245

लव की सजा

Posted On: 29 Jun, 2016 Others में

lifeTHIS BLOG MY SOUL

sumeeta

9 Posts

1 Comment

“न जाने कौन सी सोच थी ,
जब निकल पड़े तेरी ओर,
हर रस्म-रिवाज को तोड़ दिया,
हकीकत की चाह में जीना चाहा,
ठोकर लगी तब होश आया,
दिल की सारी तमनाओ को पाने में,
अपनी जिंदगी आँख मूँद कर,
झोंख दी नरक की आग में,
इस तपिश से मेरा परिवार तक,
झुलस गया तेरी चाह में,
जब-जब सम्भालना चाहा अपने को,
वक्त के तूफानी थपेड़ो ने फिर पटका,
न चाहते हुए तेरी ओर!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग