blogid : 8097 postid : 579579

मेरे सपनो का भारत

Posted On: 12 Aug, 2013 Others में

Main Aur Meri TanhaiJust another weblog

Sumit

59 Posts

780 Comments

बचपन में सोचा था , घर में पैसो का पेड़ होगा

हरी पत्तियों से भरा, मेरा आंगन होगा

लोग भूखे भले सो जायेंगे, बिना वस्त्रो के रात बिताएंगे
फिर भी
मेरे घर में बस, खुशियों का सवेरा होगा
मेरे सपनो का भारत, तो ऐसा ही होगा ….

ईमानदारी किसी को, सुहाती न होगी ,
बस नोटों की हुकूमत, दुनिया को चलाती  होगी
दिल-दिमाग से चेतनाहीन, हर प्राणी होगा
दिखाकर दुःख दर्द, हर काम पूरा होगा

मतलबी जहान में, भाईचारा कही गुम  होगा
शिक्षा से दूर नव-जीवन , अज्ञानता के करीब होगा
देखा था मैंने इसी भारत का सपना,
जिसे नेता बन मैंने पूरा किया

देखा था जो ख्वाब, वो ख्वाब पूरा किया
सपनो के भारत का, नव-निर्माण पूरा किया !!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग