blogid : 8097 postid : 717

हमसफ़र मेरा

Posted On: 3 Jul, 2013 Others में

Main Aur Meri TanhaiJust another weblog

Sumit

59 Posts

780 Comments

बिछड़ा था हमसफ़र मेरा

अप्रैल की गर्मियों में
मिले  न अब तक,
उसके कोई निशान
न आयी उसकी कोई चिट्ठी -खबर !!
.
गर्मियों से बरसात तक
मिले जो राह में पदचिह्न मुझे
उन पदचिह्नों को देख कर
जाने कितनी बार अश्क बहाये
कितनो के आगे रोया
कही देखा है हमसफ़र मेरा !!
.
उम्र के साथ अब ढल रही है नज़रे
और थक रहा है बदन मेरा
मगर मेरी उम्मीद कहती है
मिलेगा एक दिन हमसफ़र तेरा …
.
मेरे मरने से पहले
उससे मिला देना खुदा
या मुझ तक भेज देना सन्देश उसका
कि वो जहाँ है बहुत खुश है
ताकि सुकून से मर सकू मैं !!!!
.
सुमित नैथानी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग