blogid : 4238 postid : 1102239

लघुकथा : क़ुरबानी

Posted On: 26 Sep, 2015 Others में

सुमित के तड़के - SUMIT KE TADKEDelhi & Damini Anthem Writer's blog.

SUMIT PRATAP SINGH

196 Posts

153 Comments

फ़ीक़ असलम के कान में फुसफुसाया – “भाई जान सामने देखो सलमा आ रही है। क्यों न आज इस गली के सूनेपन का फायदा उठा लिया जाये?”

असलम रफ़ीक के गाल पर जोरदार झापड़ मारते हुए गुस्से में बोला – “हरामखोर आज के पाक दिन ऐसी बात सोचना भी हराम है।”
रफ़ीक़ अपना गाल सहलाते हुए बोला- “माफ़ करना भाई जान गलती हो गयी।”
असलम ने रफ़ीक़ के कंधे पर हाथ धरकर मुस्कुराते हुए कहा – “आज बकरीद पर अल्लाह को बकरे की क़ुरबानी दे आते हैं फिर किसी और रोज हम दोनों इस हसीना की क़ुरबानी ले लेंगे।” 
“हा हा हा भाई जान आईडिया अच्छा है।” रफ़ीक़ खिलखिलाया। और दोनों मस्जिद की ओर बढ़ चले।

लेखक : सुमित प्रताप सिंह
sumitpratapsingh.com

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग