blogid : 12009 postid : 781132

please listen, Mr. Modi ji ......

Posted On: 5 Sep, 2014 Others में

sach ka aainaअपने किरदार को जब भी जिया मैंने, तो जहर तोहमतों का पिया मैंने, और भी तार-तार हो गया वजूद मेरा, जब भी चाक गिरेबां सिया मैंने...

sunita dohare Management Editor

222 Posts

956 Comments

577159_345087918936802_734842680_nnmhbh

please listen, Mr. Modi ji …...

माननीय मोदी जी आपकी सरकार को शिक्षा में सुधार करने के लिए ज्यादा प्रयत्न करने की जरूरत नहीं है सिर्फ कुछ आदेश जारी करें। तो प्रस्तुत हैं आपके लिए सबसे सरल उपाय ! फार्मूला नम्बर वन जो शिक्षा के आंतरिक स्तर को सुधार सकने के साथ ही सौ फार्मूलों पर भारी है !….अमल करके अवश्य देखिये, असर तुरंत होगा !!!!!!
हमारे देश के “आईएएस, आईपीएस, पीसीएस, पीपीएस, सरकारी डाक्टर, इंजीनियर के साथ ही केंद्र और राज्य सरकार के सभी अधिकारियों कर्मचारियों के लिए ये बाध्यता होनी चाहिए कि उनके बच्चे सरकारी स्कूल में ही पढ़ेंगे।
इसके साथ ही केंद्र और राज्य सरकार के मंत्री, सांसद, विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष, मेयर, पंचायत अध्यक्ष ये सब अगर अपने बच्चे को मंहगे प्राईवेट स्कूलों में शिक्षा दिलाते है तो उनकी मंत्रिपद और सदस्यता समाप्त करने के साथ ही उन्हे किसी भी तरह के चुनाव लड़ने के अयोग्य माना जाना चाहिए !
मुझे ये बात कहने में कतई संकोच नहीं क्योंकि मैं इस बात को अच्छी तरह से जानती हूँ कि इस “आदेश” के बाद हमारे देश में सरकारी स्कूलों की दशा पर चिंता करने की आवश्यकता नहीं रहेगी। क्योंकि ये नेता और अफसर देश के लिए ना सही अपने बच्चों के लिए ही स्कूल को पूरी तरह से सुविधाओं से युक्त बना देंगे ताकि उनके बच्चों को कोई परेशानी का सामने ना करना पड़े !
उदाहरण के तौर पर “जब ये बतौर तबादला किसी भी बंगले में कुछ महीनों या सालों के लिए जाते हैं तो उस बंगले की कायाकल्प हो जाती है अपने परिवार को हर सुख सुविधा देने के लिए ये कोई कसर नही छोड़ते हैं” इसी से आप समझ सकते हैं कि जब इनके बच्चों को सरकारी स्कूल में पढना अनिवार्य हो जाएगा तो ये सरकारी स्कूलों में सुविधायें भी ताबड़तोड़ करेंगे !
माननीय मोदी जी गुस्ताखी मांफ हो मैं उदाहरण देने के चक्कर में आगे का फार्मूला देना भूल ही गयी तो सुनिए सबसे अहम् बात कि प्राईवेट और सरकारी स्कूलों के पाठ्यक्रम के अंतर को तत्काल बेस पे खत्म करने के साथ ही प्रतियोगी परीक्षाओं के साथ ही सरकारी नौकरी में भी सरकारी स्कूलों के बच्चों को प्राथमिकता का प्रावधान अगर कर दिया जाए तो मुझे लगता है कि सिर्फ इतना ही आदेश जारी करने से देश में शिक्षा के स्तर में काफी सुधार हो जाएगा । मोदी जी आपसे गुजारिश है कि ऐसा करने से सरकारी खजाने पर कोई अतिरिक्त बोझ भी नहीं पड़ेगा !
मौके का फायदा उठाकर जनता से जीवंत संपर्क बनाये रखना लोकतंत्र में किसी भी नेता की सफलता का मूल मंत्र है मोदी जी आप इसे भुनाने में सिद्धहस्त हैं इसलिए इस देश के बच्चों के भविष्य को संवारने के लिए ही सही, कुछ तो भुनाइये ! आपको अगर 10 सालों तक पीएम बनके रहना है तो सबसे पहले आप इस उपाय को अपनाइए ! आवाम के दिलों पर तो राज कर ही रहे हैं इस मामूली से आदेश को देकर आप अब इन बच्चों के दिलों पर भी राज करिए ! “अंत भला तो सब भला” !!!!!!

सुनीता दोहरे….

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग