blogid : 14530 postid : 1387252

जमाने की न जाने , ये कैसी बयार है...

Posted On: 7 Jun, 2018 Others में

tarkeshkumarojhaJust another weblog

तारकेश कुमार ओझा

268 Posts

96 Comments

जमाने की न जाने , ये कैसी बयार है…
नेपथ्य में नायक, मगर खलनायकों की बहार है
नाम से ज्यादा बदनामी की पूछ
बजता डंका जोरदार है…
नेक माने जा रहे बेवकूफ
धूर्त – बेईमानों की जय – जयकार है
अग्निपथ पर चलने वाले संघर्षशील कहला रहे बोरिंग
हिस्ट्रीशीटरों की बहार ही बहार है
न जाने कहां रुकेगा ये सिलसिला
सोच कर भी मचता दिल में हाहाकार है…

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग