blogid : 14530 postid : 1387452

शहर अंजान हो गया

Posted On: 27 Mar, 2020 Common Man Issues में

tarkeshkumarojhaJust another weblog

तारकेश कुमार ओझा

302 Posts

96 Comments

कोरोना के कहर में,
अपना ही शहर अंजान हो गया
सुनसान हुए चौक – चौराहे
बाजार वीरान हो गया ,

 

 

तिनके – तिनके से जहां थी दोस्ती ,
पहचान ही गुमनाम हो गया ,

 

 

लापता हो गई यारी-दोस्ती ,
मुल्तवी हर काम हो गया ,
एक अंजाने – अनचिन्हे डर के आगे ,
बेबस – बेचारा विज्ञान हो गया

 

 

 

नोट : यह लेखक के निजी विचार हैं, इसके लिए वह स्वयं उत्तरदायी हैं।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग