blogid : 317 postid : 273

फोन किस कान से सुनें?

Posted On: 17 Jan, 2013 Others में

तकनीक-ए- जहॉMobile, Gadgets, Technology and much more

Technology Blog

174 Posts

487 Comments

एक समय था जब भारत में मोबाइल गिने-चुने लोगों के पास हुआ करता था. लेकिन साल 2000 के बाद मोबाइल के क्षेत्र में हालात बड़ी तेजी से बदले हैं. आज तो यह हालत है कि मोबाइल भारत में हर इंसान की जरूरत बन गया है. चाहे कोई बड़ा व्यापारी हो या छोटी क्लासों में पढ़ने वाले बच्चे यह मोबाइल आज सभी के पास मिल ही जाता है. लेकिन जिस मोबाइल को हम अपनी सुविधा का सबसे बड़ा स्त्रोत मानते हैं दरअसल वही कई स्थितियों में हमारे लिए जी का जंजाल भी बन सकता है. आज हम इस ब्लॉग में आपको मोबाइल से निकलने वाली रेडिएशन और उससे बचाव के बारे में बताएंगे:

Read: Love Story of Asha Bhosle


mobile-sl-5-6-2011Safety Tips from Mobile Radiation

आज कई लोग मोबाइल के उपयोग में सावधानी न बरतने के कारण बीमार हो रहे हैं. आज के युवा ईयरफोन लगाकर तेज आवाज में गाने सुनने और दोस्तों से मोबाइल पर लंबी गपशप करने की वजह से अनजाने में ही बहरेपन और याददाश्त कमजोर होने की बीमारी के शिकार हो रहे हैं. आज ऐसे मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है.


दरअसल इस सब की फसाद हैं मोबाइल से निकलने वाली इलेक्ट्रो मैग्नेटिक किरणें. यह किरणें हमारे याददाश्त और श्रवण शक्ति पर बड़ा गहरा आघात करती हैं.

Read: How to save a Wet Cell Phone


Cell Phone Radiation Protection Tips

मोबाइल फोन से निकलने वाला रेडिएशन सेहत के लिए खतरा भी साबित हो सकता है. लेकिन कुछ सावधानियां बरती जाएं तो मोबाइल रेडिएशन से होने वाले खतरों से काफी हद तक बचा जा सकता है.


दूरी: मोबाइल पर बात करते समय आप मोबाइल को शरीर से जितना दूर रखेंगे उतना अच्छा है. इसके लिए आप चाहें तो ऐसे हेड-सेट्स यूज कर सकते हैं जिनमें ईयर पीस और कानों के बीच प्लास्टिक की एयर ट्यूब हो.

जेब में ना रखना: मोबाइल को हर वक्त जेब में रखकर न घूमें. इसके साथ ही न ही तकिए के नीचे या बगल में रखकर सोएं क्योंकि मोबाइल हर मिनट टावर को सिग्नल भेजता है. सबसे अच्छा होता है कि मोबाइल को जेब से निकालकर कम-से-कम दो फुट यानि करीब एक हाथ की दूरी पर रखें. सोते हुए भी दूरी बनाए रखें.


पेसमेकर लगा है तो सावधान!: अगर शरीर में पेसमेकर लगा है तो हैंडसेट से 1 फुट तक की दूरी बनाकर बात करें. शरीर में लगा डिवाइस इलेक्ट्रिक सिग्नल पैदा करता है, जिसके साथ मोबाइल के सिग्नल दखल दे सकते हैं. ऐसे में ये शरीर को कम या ज्यादा सिग्नल पहुंचा सकते हैं, जो नुकसानदेह हो सकता है. ऐसे में ब्लूटूथ या हैंड्स-फ्री डिवाइस के जरिए या फिर स्पीकर ऑन कर बात करें. पेसमेकर जिस तरफ लगा है, उस पॉकेट में मोबाइल न रखें.

मोबाइल कहां रखें: अधिकतर विशेषज्ञ मानते हैं कि महिलाओं के लिए मोबाइल को पर्स में रखना और पुरुषों के लिए कमर पर बेल्ट पर साइड में लगाए गए पाउच में रखना बेहतर होता है.

Read: How to Send Free SMS


इसके साथ ही यह कुछ छोटे-छोटे अहम बचाव के तरीके निम्न हैं:

* ईयरफोन का इस्तेमाल कम से कम करें.

* ईयरफोन लगाकर तेज आवाज में गाने न सुनें.

* एक ही कान पर मोबाइल लगाकर ज्यादा देर तक बात न करें.

* ईयर फोन पर बात करते समय कुछ देर का अंतराल जरूर दें.

Also Read:

How to Increase Battery Life of Mobile

FREE ONLINE MOVIES IN HINDI

ATM Tips in Hindi


Post Your Comments on: आप आज के समय में मोबाइल का सबसे बड़ा नुकसान किसे मानते हैं?


Tag: Radiation and Cell Phones,Safety Tips, Cell Phone Radiation, Cell Phone Radiation Protection Tips, Cell Phone Radiation Protection Tips, Cell Phone Radiation Protection Tips in hindi, Cell Phone Electro-Magnetic-Radiation Protection Tips, Mobile Safety Tips in Hindi, Top Technology Blogs

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग