blogid : 26264 postid : 12

मोदी जी उत्तराखंड के कल्याणपूर गांव का दौरा भी करलीजिए

Posted On: 30 Apr, 2018 Common Man Issues में

तेजोमय शिप्राJust another Jagranjunction Blogs Sites site

tezshipra

8 Posts

1 Comment

चुनाव आते आते सारे वायदे पूरे होने के झुठे दांवों का दौर भी शूरू हो ही  गया ,अब तो प्रधानमंत्री ने खुद इसकी शुरूआत कर दी है । खैर सच तो आज तक कोई प्रधानमंत्री 100  प्रतिशत बोला नहीं ,लेकिन पीएम मोदी ने अंधेरी रात में सूरज खिलने वाला झूठ बोल डाला । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सभी गांवों तक बिजली पहुंचने का दावा किया है,उन्होंने रविवार को ट्वीट कर बताया कि मणिपुर का लेइसांग गांव ग्रिड से जुड़ने वाला देश का आखिरी गांव है। 28 अप्रैल देश के लिए ऐतिहासिक दिन है।मोदी ने कहा कि लेइसांग सहित देश के ऐसे तमाम गांवों में बिजली पहुंच चुकी है, जहां रोशनी नहीं थी। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, देश के सभी 597,464 गांवों तक बिजली पहुंच चुकी है। मोदी सरकार के सत्ता संभालने के वक्त 18,452 गांवों तक बिजली नहीं पहुंची थी, और अब चुनाव नजदीक आते पीएम मोदी ने देश में पूर्ण विद्यूतिकरण का एलान कर दिया…तो वहीं उनके मंत्री उन्हीं की क्षय पर झुठ का प्रचार करने से भी पीछे नहीं हटे। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल का एक ट्वीट उन्हीं पर भारी पड़ गया और वे ट्रोल के निशाने पर आ गए। उन्होंने देश के सभी गांव में बिजली पहुंचने को लेकर एक ट्वीट किया। इस ट्वीट के साथ उन्होंने सैटेलाइट द्वारा रात में ली गईं तस्वीरें भी पोस्ट की। जो पहले और बाद की स्थिति को दिखा रही थीं।इन तस्वीरों पर ट्रोल आर्मी ने उन्हें घेर लिया।नासा ने इनमें से एक फोटो वर्ष 2012 में जारी की थी और दूसरी वर्ष 2016 में।दोनों फोटो के जरिये जनसंख्या विस्तार और बसावट को दिखाया गया था। बस इसी पर पीयूष गोयल ट्रोल के निशाने पर आ गए। कुछ ही घंटों में उनके ट्वीट को चार हजार से ज्यादा बार री-ट्वीट किया गया। तो वहीं एक हजार से अधिक लोगों ने रिप्लाई किया।जिसमें कई लोगों ने ट्वीट कर अपने गांव और शहर के बूरे हालातों से वाकिफ कराया गया है…मध्यप्रदेश के साथ उत्तराखंड के दुर्गम क्षेत्रों में आज भी कई गांव आजादी के बाद से अंधेरे में जीवन यापन करने को मजबूर हैं।गांव में 70 साल से बिजली नहीं…..जी हां पीएम साहब चीन से संबंध सुधारने से फिलहाल देश के हालातों को सुधारा जाएं…जाइए उत्तराखंड में रूद्रपूर के कल्याण पूर गांव में एक रात बीता कर आप समझ  जाएंगें कि, आप वाकई में रात में सूरज खिलाने की बात कर रहे थे ।

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग