blogid : 5095 postid : 299

आश की गूढ़ रचना

Posted On: 18 Jun, 2012 Others में

RASHTRA BHAW"प्रेम भी प्रतिशोध भी"

vasudev tripathi

68 Posts

1316 Comments

भावना को है समर्पण।

मुक्ति को यह विश्व अर्पण।

उर्मियों की कृति क्षणिक हो,

पर वेग में विश्वास मेरा,

वेग से है तृप्ति तर्पण॥

**

नक्त के भी स्वप्न अगणित।

ध्वान्त में पुष्पित फलित।

स्वीकृत करेंगी अंशु रवि की?

सृष्टि को उद्वेगना है!

संबल दिये है आश विगलित॥

**

मौन के यह नाद नीरव।

चिर पुरातन नव्य कैरव।

भावना के गीत सुनकर,

कह रहे दुष्कर नहीं कुछ,

स्वांस के उन्मुक्त कलरव॥

**

तुम कहो ये मूढ़ता है।

शून्य में क्या ढूँढता है।

किन्तु मेरी दृष्टि में जब,

मरुभूमि ही प्रस्तर यहाँ हो,

मरु-प्रासाद की यह मूढ़ रचना,

भी स्वयं में गूढ़ता है॥

***

-Vasudev Tripathi

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग