blogid : 15395 postid : 693649

एकाकी जीवन (कविता – कॉन्टेस्ट)

Posted On: 24 Jan, 2014 Others में

meri awaaz - meri kavitaकहीं दब न जाए मेरी आवाज ... खामोशी के बीच

udayraj

25 Posts

98 Comments

एकाकी जीवन

जीवन की सुनहली ,
कपोल, कल्पित – कल्‍पनाएँ
दिवासान की छवि – सी
मधुर, पर क्षण भंगुर
जीवन-चक्र संघर्षो से
होती धुमिल ।।
——-

यादों के आइनों से उबर,
बंद पुंखडि़यों सी नई
कलि-खिली – मुस्‍काई
निर्मल-निश्‍चछल सा,
क्षण भर का भ्रमर-मिलन
वही फिर तंहा-जीवन ।।
——————–

एकाकी जीवन की व्‍यथा,
संघर्षों की यह कथा
अधुरे स्‍वपन का स्‍नेह – भरा प्‍यार
पुर्ण होने की पुन: इंतजार
जीवन के पतझड़ में , न जाने
कब आए बसंत बहार ।।
—————————

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग