blogid : 15395 postid : 738712

चुनावी - रंग

Posted On: 7 May, 2014 Others में

meri awaaz - meri kavitaकहीं दब न जाए मेरी आवाज ... खामोशी के बीच

udayraj

25 Posts

98 Comments

चुनावी – रंग

फिर आया चुनाव – फिर हुआ चुनाव,
चुनावी रंग में रंग में रंगा शहर और गॉंव ।
जनता फासने को नेता चले नये दांव ,
डूबे न इनकी मजधार में नाव ।।
******
फूलों से भी जिनके छिल जाते पांव ,
खि‍न्न होते देख निरिह जनता के घाव ।
मरहम करने निकले वही- लिए प्रेम का भाव ,
अब उन्हें न घूप लगती न छांव ।।
*******
हर गली हर चौराहे पर डाले पड़ाव ,
जनता की सेवा में दिखाते बड़ी चाव ।
मिथ्या वादों की फिर वहीं कांव – कांव ,
‘देश में लाएंगे नया बदलाव’ ।।
*******
कुर्सी पाते ही बदल जाता बर्ताव,
जन-सेवा से निज-सेवा में होता झुकाव ।
देश में फैला जाति -धर्म-अलगाव ,
अपनी कुर्सी का करते बचाव ।।
******
—————————————
उदयराज़

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग