blogid : 15395 postid : 596748

दंगा

Posted On: 9 Sep, 2013 Others में

meri awaaz - meri kavitaकहीं दब न जाए मेरी आवाज ... खामोशी के बीच

udayraj

25 Posts

98 Comments

**** दंगा ****

शहर के एक हिस्‍से में,

कुछ लोंगो ने भड़काया दंगा ।

कल तक जो थे भाई समान,

वही बहाने लगे खुन की गंगा ।।

*********************

हो रहा नरसंहार हर ओर,

मानवता न रही तनिक शेष ।

धर्म के नाम पर इन ,

दंगाइयों में भरा क्लेश ।।

*******************

जले, मिटे कितने ही इस,

सम्‍प्रदायिकता की आग में ।

बुझ गए कितने ही कुलदीप,

न रहा सिंदुर कितनों की मांग में ।।

*********************

फैली सम्‍प्रदायिकता के लिए,

देते सब इक दुजे को दोष ।

बदले की आग से,

हर दिल में भरा रोष ।।

*******************

आजाद–अश्‍फाक की जोड़ी टुटी,

नफरत की चिंगारी बिखरी ।

इस सभ्‍य समाज में,

कैसी यह अमानुषिकता उभरी ।।

—————————————–

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग