blogid : 14101 postid : 746648

नेता जी - हास्य कविता

Posted On: 27 May, 2014 Others में

मंथन- A Reviewसफलता उसके पास आती है, जो साहस के साथ कार्य करते हैं। लेकिन जो परिणामों पर विचार करके ही भयभीत रहते हैं उनके पास कम आती है।

ushataneja

19 Posts

157 Comments

नेता जी
हास्य कविता

बहनों और भाईयों सुन लो
मेरी दरद भरी एक बात
तुम जैसा ही मानव हूँ मैं
नहीं दूजी कोई जात।

काका पार्टी से हूँ चाहे
या हूँ भाभा का दल
आपा का हूँ नया नवेला
या रहता दल-बदल।
जैसे तैसे करके जुगाड़
दे देता हूँ सबको मात
तुम जैसा ही मानव हूँ मैं
नहीं दूजी कोई जात।

हर कोई मुझपे जोक करे
जैसे हूँ कुर्सी का जोंक
कार्टून में मैं ऐसे दिखता
जैसे बैल रहा हो भोंक।
लोट पोट तुम सब हो जाते
करते हँस हँस मेरी बात
तुम जैसा ही मानव हूँ मैं
नहीं दूजी कोई जात।

चुनावी मौसम जब आ जाए
ए सी भी कर देता बेचैन
अंग्गारे किस पे बरसाऊँ
सोचता रहता हूँ दिन-रैन।
कोई तो मुझपे तरस खाओ
मत बरसाओ जूते और लात
तुम जैसा ही मानव हूँ मैं
नहीं दूजी कोई जात।

कोयला खाऊँ चारा खाऊँ
पर रोटी दाल न खाऊँ
यह भी मैं खा जाऊँ तो
तुमको सब कैसे दे जाऊँ?
जग हित ही तो मेरा हित है
सस्ता कर दिया दाल भात
तुम जैसा ही मानव हूँ मैं
नहीं दूजी कोई जात।

कृपया यहाँ भी पधारिए|

http://explorerut.com/

यह मेरा निजी ब्लॉग है|

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग