blogid : 11786 postid : 766824

Posted On: 25 Jul, 2014 Others में

http://kuch-ankaha-sa.blogspot.in/बात एक अनकही सी- उन बातों का एक सिलसिला है जो जाने अनजाने हमारे जीवन में रोजाना घटती रहती हैं और हम उनपर ध्यान देते भीहैं और उनकी अनदेखी भी कर देते हैं पर कुछ बातें ऐसी भी होती हैं जो मन और दिमाग में बसेरा कर लेती हैं

veena

43 Posts

48 Comments

धूप

जिधर देखो आज
धुन्धलाइ सी है धूप.

न जाने आज क्यों?
कुम्हलाई सी है धूप.

आसमाँ के बादलों से
भरमाई सी है धूप.

पखेरूओं की चहचाहट से
क्यों बौराई सी है धूप?

पेड़ों की छाँव तले
क्यों अलसाई सी है धूप?

चैत के माह में भी
बेहद तमतामाई सी है धूप.

हवाओं की कश्ती पर सवार
क्यों आज लरज़ाई सी है धूप?

वीणा सेठी.
sunlight1

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग