blogid : 680 postid : 441

कुत्ते का केक – हास्य-शायरी

Posted On: 28 Jan, 2011 Video में

Jagran VideosJust another weblog

Video Blogs

448 Posts

199 Comments


शायरी साहित्य का एक अभिन्न हिस्सा रही है. और शायरी का अंदाज हमेशा से ऐसा रहा है कि लोग उसे प्रभावित होते ही हैं. शायरी को कुछ दिलों तक पहुंचने का जरिया समझते है तो कुछ के लिए शायरी हंसने का बहाना भी है तो आप भी इस हास्य रस का आनंद लिजिए.

एक शायर अर्ज करता है एक शेर. पहले तो सुना था कि सिर्फ कुत्तें के खाने का बिस्कुट होता है, अबतो भईया केक भी बनने लगा है. बचके कुत्तों कहीं कोई नेता तुम्हारे केक का घोटाला ना कर दें.

शेर , “बोला दुकानदार कि क्या चाहिए तुम्हें, जो भी चाहोगे मेरी दुकान पर तुम पाओगे.
मैंने कहा कि कुत्ते के खाने का केक है. वह बोला यहीं पर खाओगे या घर लेकर जाओगे.”


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 1.50 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग