blogid : 8186 postid : 6

किसान का घर

Posted On: 5 Feb, 2012 Others में

BhavbhoomiJust another weblog

vikaskumar

13 Posts

37 Comments

मिट्टी की लेप बाँस से बनी भित्तियों पर
मानो उकेर दिए गये हैं मन के भाव सुन्दर ।
आँगन है स्वच्छ , सुन्दर , लिपा -पुता
एक कोने में लकड़ी का चूल्हा जलता ।
भोजन रही बना एक गृहिणी सीधी -सादी
खेलते बच्चे , चौकी पर बैठी उनकी दादी ।
न बड़ी -बड़ी लालसाओं से मन उद्विग्न है
मिट्टी से बने खिलौनों में हर बच्चा मग्न है ।
रह -रह खेतों से शुद्ध हवा के झोंके आते
कभी आँगन में , कभी छप्पर पर पंछी गाते ।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग