blogid : 8186 postid : 3

शीत ऋतु

Posted On: 8 Jan, 2012 Others में

BhavbhoomiJust another weblog

vikaskumar

13 Posts

37 Comments

गेंदा के सुरभित पीले पुष्पों से
वसुधा का नूतन श्रृंगार हुआ ।
छोटे दिवसों और दीर्घ निशा से
शीत ऋतु का विस्तार हुआ ।

प्रातः दूब हरित सजी होती
तुहिन के सुन्दर ,चटक कणों से ।
चढ़ता जाता दिवस जैसे -जैसे
ओझल होता तुहिन नयनों से ।

रवि की मृदु सुखद किरणों से
ऊष्ण देह जाती है अलसाई ।
मन करता घर छोड़ खुले में
लेटा रहूँ कहीं बिछा चटाई ।

आए कोसों की दूरी पार कर
रंग -बिरंगे पंछी , करने प्रवास ।
छटा सरोवरों की बदल गयी है ,
कूजन -कलरव , सहज उल्लास ।

विहंग-कंठ मानो सितार हुआ ।
शीत ऋतु का विस्तार हुआ ।

विकास कुमार

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग