blogid : 1601 postid : 108

अन्ना का आन्दोलन दाल में कुछ काला है

Posted On: 31 Aug, 2011 Others में

ajad log Just another weblog

vikasmehta

250 Posts

637 Comments

अन्ना का आन्दोलन भ्रष्टाचार के पर्ती जागरूकता पैदा करता बेशक लगता हो लेकिन एक बात तो सच है अन्ना आन्दोलन की वजह से शीला की कुर्सी बच गयी है .कोम्न्वेल्थ घोटालो को लेकर जो जनता दिल्ली की मुख्यमंत्री को कोस रही थी और विपक्ष भी अपनी धार पैनी कर रहा था वही जनता अपनी उर्जा को वन्दे मातरम और अन्ना आन्दोलन में लगाने लगी .वैसे कुछ लोग यह कह सकते है की इस आन्दोलन का लाभ अगले चुनावों में विपक्ष को मिलेगा .परन्तु सच तो यह है अगले चुनावो में अभी सालो का वक्त बचा है और सरकार का कार्यकाल अभी लंबा है .और तब तक हमारे देश के लोग भूल जायेंगे कोन सा आन्दोलन और कोन से घोटाले और कोन से अन्ना ..जिस तरह से मिडिया ने अन्ना का भरपूर साथ दिया कही न कही शक होता है दाल में कुछ तो काला है .क्यों की जो मिडिया राष्ट्रहित के मुद्दों पर कोई टिप्पणी तक नही करता वही मीडिया रात दिन अन्ना के आन्दोलन को हवा देता रहा और उस पर कोई करवाई भी नही हुई .बेशक से अन्ना जी एक सवच्छ छवि के जननेता है लेकिन लगता है वह राजनीती के शिकार हुए है . जिस देश में सांसद तो क्या कैबिनेट मंत्री भी कोई टिप्पणी देने में पार्टी हाईकमान के आदेश का इंतज़ार करते हो वह अगर खुलकर पार्टी की बगावत करे और उन पर कोई करवाई न हो तो क्या कहिएगा ? गड़बड़ तो है कही न कही लेकिन परते खुलने में वक्त लगेगा

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग