blogid : 17137 postid : 864999

और इक बेसहूर मै......

Posted On: 28 Mar, 2015 Others में

रिमझिम फुहारआँखे नीर भरी ..

विनय सक्सेना

27 Posts

59 Comments

वही कमरा बंद सा
जहाँ रौशनी भी रुकी रुकी
मकड़ी के जालो से लधे झरोखे
और उसमे झाकते कुछ पुराने चेहरे
दीवारें समय की झुर्रियों ओढ़े
न जाने अब किससे शरमाते है
वफाएं उनीदीं से फर्श पे लुढ़की
इंतज़ार दरवाजों सा अधखुला
कभी पूरा बंद होता भी नहीं

वो शख्स कोई खुद से रूठा
साँसों का क़र्ज़ आहिस्ता आहिस्ता
चुकाता हुआ ढूँढता है
अपने आज में
बीता हुआ कल
जो शायद रखा था
इसी कमरे के किसी
बूढ़े से आले में
आला भी आवारा
कमरे में ही कही गुम था

ये सलीकेदार दुनियां भी
कई रास्तों को परखती है रोज
कोई रास्ता इस घर को मगर
कभी आता नहीं

आह
ये सालिकेदार दुनिया……
और इक बेसहूर मै……

विनय सक्सेना
२७ मार्च २०१५

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग