blogid : 17137 postid : 722307

गुलशन....

Posted On: 25 Mar, 2014 Others में

रिमझिम फुहारआँखे नीर भरी ..

विनय सक्सेना

27 Posts

59 Comments

गुलशन

 

दरख्त तमाम मुन्तजिर है इस राहें गुलशन में

इक संग-राह भी नज़र है मगर इसी गुलशन में

 

खवाब रौशन रंगी खूब-गुल यहीं इस गुलशन में

हकीकत कांटो सी जवां मगर इसी गुलशन में

 

अंदाज-इ-बयां ऐसा कि इबादत हों जैसे

तंज ऐसे कि हरे ज़ख्म हों इसी गुलशन में

 

कुई था कभी सर-इ-शाम यहीं बैठा मेरे पहलूँ में

आज इक फूल सा महका मगर इसी गुलशन में

 

विनय सक्सेना

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग