blogid : 3055 postid : 34

जो तुम कहो

Posted On: 8 Jan, 2011 Others में

दोस्ती(Dosti)जीवन में जिसे सच्चा मित्र मिल गया-समझो सब-कुछ मिल गया.उन सभी दोस्तों के लिए जिनको ऎसा मित्र मिल गया हॆ या जो उसकी तलाश में हॆं

विनोद Vinod पाराशर Parashar

23 Posts

362 Comments

वॆसे तो,खाने-पीने के मामले में मेरी कोई खास पसंद या नापसंद नहीं हॆ.पत्नी जी- जो बना कर दे देती हॆं,बिना किसी मीन-मेख के,मंदिर से मिला प्रसाद समझकर, खा लेता हूं.लेकिन कल मुझे लगा कि-हमारी श्रीमती जी,कुछ अच्छे मूड में हॆं-इसलिए थोडी-सी हिम्मत करके पूछ ही बॆठा-

“आज,शाम के खाने में क्या बना रही हो?”

“जो तुम कहो”-पत्नी ने मुस्कराकर जवाब दिया.

पत्नी की मुस्कराहट देख कर-मेरा मनोबल थोडा बढ गया.

मॆंने प्रस्ताव रखा-“मटर-पनीर की सब्जी ऒर पूडी बना लो”

वो बोली-“अभी,तीन दिन पहले ही तो बनाये थे”

मॆंने दूसरा प्रस्ताव रख दिया-“सीताफल ऒर पूडी ही बना लो”

वो बोली-“सीताफल बच्चे कहां,खाते हॆ?”

मेरा मनोबल गिरने लगा था.फिर भी,हार न मानते हुए एक प्रस्ताव ऒर रख ही दिया-“आलू-गोभी तो ठीक हॆ,वही बना लो”

“आलू-गोभी! बना तो लूं,लेकिन पहले अपनी मां से तो पूछ लो.कहेगी-आलू-गोभी उसे बाय करती हॆ”

इस बार पत्नी के लहजें में,वह पहली वाली मिठास नहीं थी.मॆं समझ गया कि -मेरी दाल गलने वाली नहीं हॆ.इसलिए एक हारे हुए जुआरी की तरह,थके-से स्वर में पूछा-

“अच्छा भाग्यवान! तुम खुद ही बता दो-आज शाम के खाने में क्या बना रही हो?”

“जो तुम कहो”-पत्नी ने एक बार फिर मुस्कराकर कहा.

मॆंने चुप रहने में ही,अपनी भलाई समझी ऒर मंदिर वाला प्रसाद मुझे फिर से ध्यान आ गया.

Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग