blogid : 3055 postid : 1

नमस्कार मित्रों !

Posted On: 11 Dec, 2010 Others में

दोस्ती(Dosti)जीवन में जिसे सच्चा मित्र मिल गया-समझो सब-कुछ मिल गया.उन सभी दोस्तों के लिए जिनको ऎसा मित्र मिल गया हॆ या जो उसकी तलाश में हॆं

विनोद Vinod पाराशर Parashar

23 Posts

362 Comments

!हिंदी-साहित्य में रुचि रखने वाला व्यक्ति वर्ष-1980 से लेख्नन.देश की कई प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाऒं में रचनायें प्रकाशित.कुछ रचनाऒं का पंजाबी-भाषा में अनुवाद भी छपा हॆ.वर्ष-1991में ’नया-घ्रर’प्रथम काव्य-संग्रह-हिंदी अकादमी: दिल्ली के आर्थिक सहयोग से प्रकाशित.’क्षितिज के उस पार’गजल-संग्रह का सहयोगी गजलकार. वर्ष-1983 में अपने कालेज की ओर से ’सर्वश्रेष्ठ कवि’के पुरस्कार से सम्मानित. सरकारी काम- काज में हिंदी के प्रयोग को बढावा देने के लिए प्रयासरत.रा्जभाषा हिंदी में सरकारी काम करने के लिए,विभाग द्वारा अनेको बार पुरस्कृत. संप्रति:भारत सरकार के संचार एवं प्रोद्यॊगिकी मंत्रालय के अंतर्गत डाक विभाग में सेवारत.आप जॆसे मित्रों से विचारों के आदान-प्रदान हेतु-इस मंच पर आ गया हूं.

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग