blogid : 26750 postid : 136

विटामिन से बढ़ाएं सेहत और सौंदर्य

Posted On: 13 Sep, 2019 Common Man Issues में

Delhi NewsJust another Jagranjunction Blogs Sites site

Vinod Kumar

11 Posts

0 Comment

विटामिन सी न केवल हमारी सेहत बल्कि हमारी सुंदरता में भी चार चांद लगाता है। विटामिन सी को एस्कॉर्बिक एसिड के नाम से भी जाना जाता है जो शरीर की रोग प्रतिरक्षण क्षमता बढ़ाता है। यह एक बेहतरीन एंटीऑक्सीडेंट भी है जो कैंसर और अन्य बीमारियां पैदा करने वाली फ्री रेडिकल्स से बचाता है। यह कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ने में भी काफी मदद करता है। यह कोशिकाओं और डीएनए में होने वाले उस परिवर्तन से भी बचाव करता है जो शरीर में कैंसर पैदा कर सकता है। यह आंतों में आयरन तत्व को पाचने में भी मदद करता है।

 

बीमारियों से बचाता है विटामिन सी
हीलिंग टच, नई दिल्ली की आहार एवं पोषण विशेषज्ञ पल्लवी वैश्य के अनुसार विटामिन सी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट तत्व दिल की सेहत बनाने में तथा हृदय संबंधी कई समस्याओं से लड़ने में कारगर हैं। यह धमनियों को क्षतिग्रस्त होने से बचाने के साथ रक्त कोशिकाओं में कोलेस्ट्रॉल जमने से रोकता है जिसकी वजह से हार्ट अटैक और ब्रेन स्ट्रोक का खतरा कम हो जाता है।

 

विटामिन सी शरीर में अस्थमा के लिए जिम्मेदार हिस्टामाइन के उत्पादन को कम करता है जिसकी वजह से एलर्जी, अस्थमा या सांस संबंधी परेशानियां होने की आशका कम हो जाती है। विटामिन सी के एंटीऑक्सीडेंट तत्व फेफड़ों की सफाई करने में भी अहम भूमिका निभाते हैं।
विटामिन सी त्वचा के घाव को जल्दी भरने में मदद करता है। शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने की स्थति में भी विटामिन सी संक्रमण फैलने और बीमारियों से बचाव करता है।

 

जोड़ों में कोलेजन और काटिर्लेज के क्षतिग्रस्त होने पर, उम्र के बढ़ने या किसी इंफेक्शन की वजह से अगर जोड़ों में दर्द हो रहा हो तो विटामिन सी कोलेजन नामक प्रोटीन का निर्माण करके दर्द से राहत देता है। विटामिन सी न केवल आपके दिमाग को स्वस्थ रखता है बल्कि यह स्ट्रेस से मुकाबला करने वाले एड्रिनेलिन हार्मोन का स्त्राव करके तनाव से भी राहत देता है।

 

सौंदर्य बढ़ाने में भी है मददगार
विटामिन सी त्वचा में कोलेजन बनाने में मदद करता है। इसकी वजह से त्वचा में लचीलापन बना रहता है। यदि व्यक्ति के शरीर में विटामिन-सी की कमी हो जाए तो उसकी त्वचा समय से पहले लटकने लगती है और चेहरे पर बुढ़ापा जल्दी ही दिखने लगता है। विटामिन सी एजिंग की प्रक्रिया को प्राकृतिक रुप से कम करने में मदद करता है। इतना ही नहीं यह चेहरे की झुर्रियों को कम करने में भी मदद करता है।

 

बालों को शुष्क होने से बचाने के लिए विटामिन सी एक बेहतर विकल्प है। शरीर में विटामिन सी की कमी होने से बालों में रूखापन आ जाता है। सिर की त्वचा पर सूखी पपड़ी जमने की वजह से बालों की जड़ें कमजोर हो जाती हैं और बाल गिरने लगते हैं। लेकिन विटामिन सी की मदद से सिर में रक्त-संचार बढ़ता है और बाल लंबे और खूबसूरत बनते हैं।

 

विटामिन सी की कमी के क्या हैं दुष्प्रभाव
शरीर में विटामिन सी की कमी होने पर रोग प्रतिरक्षण क्षमता कम हो जाती है, इंफेक्शन और बीमारियों का असर जल्द हो सकता है, बहुत थकान लग सकती है, त्वचा के नीचे खून के नीले धब्बे आ सकते है, मसूड़ों में सूजन और रक्तस्राव हो सकता है और यहां तक कि शरीर के किसी भी हिस्से से ब्लीडिंग हो सकती है। बच्चो में हड्डियों के विकास पर भी असर पड़ता है।

 

किन चीजों में मिलता है विटामिन सी
खट्टे रसदार फल जैसे आंवला, नारंगी, नींबू, संतरा, बेर, कटहल, शलगम, पुदीना, अंगूर, टमाटर, अमरूद, सेब, केला, मूली के पत्ते, मुनक्का, दूध, चुकंदर, चौलाई, बंदगोभी, हरा धनिया, और पालक विटामिन सी के अच्छे स्रोत हैं। अगर शरीर में विटामिन सी की कमी हो तो प्रतिदिन इनका सेवन करके इस कमी को प्राकृतिक रूप से दूर किया जा सकता है।

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग