blogid : 10014 postid : 31

क्या हम मिट्टी के खिलौने हैं ?

Posted On: 27 Jul, 2012 Others में

Core Of The Heartभूल के काली शब को , लिखो एक नया कुर्शिदा | गुम न होने पाए आवाज तेरी , बरसों तक सुनाई देती रहे सदा ||

VIVEK KUMAR SINGH

24 Posts

139 Comments

क्या तू एक अल्पवय, अबोध बालक ,
और हम तुझे प्रदत्त क्षण – भंगुर मिट्टी के खिलौने हैं ?
तू है नटखट, चंचल प्रतिपल
और तेरे समक्ष हम बौने हैं ?

जब चाहे खेल लिया हमसे ,
जब चाहे फ़ेंक दिया |
अपना मन बहलाया हमसे ,
और हमें ही दर्द अनेक दिया |

तुने क्या सोंचा, हम तेरे हाथों में फंसे ,
तेरा विरोध क्या कर पायेंगे ?
मिट्टी से ही निर्मित, मिट्टी पर ही जीवित ,
फिर मिट्टी में ही मिल जायेंगे ?

मिटटी से निर्मित हम ,
पर फौलाद का आत्मविश्वास है |
मनुष्य हैं हम भी , सिर्फ आप नहीं ,
हमारे शरीर में भी लाल रक्त और अस्थियों का वास है |

किसी की खैरात नहीं ,
हमारे पास भी ईश्वर-प्रदत्त जान है |
तो क्यूँ हम किसी की गुलामी करें ?
जब हमारे पास भी जिंदगी और अरमान हैं |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग