blogid : 10014 postid : 30

बलि - प्रथा

Posted On: 6 Jun, 2012 Others में

Core Of The Heartभूल के काली शब को , लिखो एक नया कुर्शिदा | गुम न होने पाए आवाज तेरी , बरसों तक सुनाई देती रहे सदा ||

VIVEK KUMAR SINGH

24 Posts

139 Comments

हर प्रकार के जीवधारियों से ,
ये धरा उन्नत है |
पर “जीव के बदले जीव “,
ये कैसी मन्नत है ?

क्यूँ धर्म की आड़ में ,
लेते हो किसी के प्राण ?
क्या अब तक तुम ,
मृत्यु के भय से हो अनजान ?

किसी निरीह का रक्त बहाकर ,
खुद को भगवन के ऋण से मुक्त करते हो |
ईश्वर तो सर्वदाता हैं,
उनको बलि देकर भक्त बनने का स्वांग धरते हो |

क्या किसी माँ – बाप को ,
अपने ही संतान का खून पसंद है ?
तो तुने सोंच कैसे लिया जगत्पिता प्रसन्न होंगे ,
क्या तेरी बुद्धि इतनी मंद है ?

झूठे हैं वो लोग ,
कही है बलिदान की कथा |
किसी निर्दोष को मारना गुनाह है ,
अमानवीय है यह बलि – प्रथा |

भगवान को चाहिए ,
अमानवीय गुणों की क़ुरबानी |
नाकि मानव का धन ,
अनाज , खून और पानी ||

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग