blogid : 14887 postid : 746975

भीड़ ने उसे दबोच कर मार डाला, जानिए अपनी ही जनता की क्रूरता के शिकार हुए एक तानाशाह के दर्दनाक अंत की कहानी

Posted On: 28 May, 2014 Politics में

International Affairsदुनिया की हर हलचल पर गहरी नज़र

World Focus

94 Posts

5 Comments

दुनिया के इतिहास में ना जाने कितने ही तानाशाह हुए, कितने ही लोगों ने सत्ता को अपनी मर्जी से चलाने की कोशिश की और कितने ही तानाशाह जनता के हितों को दरकिनार कर पॉवर के नशे में चूर हुए. लेकिन कहते हैं कोई कितना ही धनवान या शक्तिशाली क्यों ना हो मौत सभी को अपनी चपेट में ले लेती है और जब बात एक ऐसे इंसान की हो जिसने दुनिया को अपने इशारों पर नचाने की कसम खा ली हो उसका अंत तो बेहद खौफनाक होता ही है. विश्व ने कई तानाशाहों के अत्याचारों को बर्दाश्त किया है और आज हम एक ऐसे ही तानाशाह के जीवन और उसके अंत के बारे में आपको बताने जा रहे हैं जिसने अपने देश को अपनी जागीर समझकर मनचाहे तरीके से शासन किया.


dictator

लीबिया के पूर्व तानाशाह मुअम्मर गद्दाफी एक ऐसे ही शख्स का नाम है जिसने लीबिया के नागरिकों पर क्रूरतापूर्ण हुकूमत की. दुनिया के सामने गद्दाफी की छवि एक बुरे तानाशाह की है लेकिन बहुत से लोग ऐसा भी मानते हैं कि गद्दाफी के शासन में लीबिया के पास जो सुविधाएं थीं, उनके पास जो आजादी थी वह अब नहीं है, यही वजह है कि गद्दाफी का जीवन और उसका शासन अभी तक विवादास्पद विषय है.


gaddafi


वर्ष 1969 में गद्दाफी ने लीबिया की कमान संभाली थी लेकिन फरवरी, 2011 में भड़की विरोध की आग की वजह से गद्दाफी को अपना पद छोड़ना पड़ा था और गद्दाफी के अपदस्थ होने के बाद नेशनल ट्रांजिशनल काउंसिल ने लीबिया की सत्ता संभाली. विरोध, अमेरिका का दबाव और गद्दाफी की बिगड़ी हुई छवि की वजह से आखिर वो दिन आया जब एक लंबे समय तक लीबिया पर तानाशाही करने वाले मुअम्मर गद्दाफी का अंत हुआ. लेकिन ये अंत इतना मार्मिक और अमानवीय होगा इस बात का अंदाजा शायद ही किसी को था.


Read: पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति का कबूलनामा: एलियन्स की पसंदीदा जगह है पृथ्वी


58456907



अगस्त 2011 में जब एनटीसी ने लीबिया की कमान संभाल ली तब गद्दाफी अपनी जान बचाने के लिए अपने परिवार के साथ लीबिया की राजधानी में छिपने आ गया था. यह भी अफवाह थी कि वह देश के दक्षिणी भाग में छिपा हुआ है जबकि असल में वह अपने कुछ विश्वासपात्र लोगों के साथ सिरते आ गया था. 20 अक्टूबर, 2011 के दिन गद्दाफी अपने समर्थकों के काफिले के साथ वहां से भागने के कोशिश में था कि 75 वाहनों का वो काफिला शाही एयरफोर्स के सैनिक सर्वेक्षण करने वाले विमान की पकड़ में आ गया.


muammar gaddafi

लास वेगास में स्थित बेस कैंप से प्रिडेटर ड्रोन को संचालित कर गद्दाफी के काफिले पर हमला किया गया जिसमें 11 वाहन दुर्घटनाग्रस्त हुए और गद्दाफी ने छिपने के लिए एक जलनिकास पाइपलाइन में शरण ली. इस समय लीबिया का यह तानाशाह अपनी जान बचाने के लिए हर संभव कोशिश कर रहा था. एनटीसी के जवानों ने पाइपलाइन पर हमला किया जिसमें गद्दाफी के पैर पर भी दो गोलियां लगी और अंतत: गद्दाफी भी अमेरिका की पकड़ में आ गया. प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि एनटीसी के जवानों के सामने गद्दाफी अपनी जान की भीख मांग रहा था, गोली मत मारो, गोली मत मारो, कहकर वह अपनी जान बख्शने की गुहार लगा रहा था, लेकिन अफसोस ऐसा नहीं हुआ. एनटीसी के एक अधिकारी का कहना है कि गद्दाफी को मारने का ऑर्डर उन्हें नहीं मिला था इसलिए वह उसे मारने वाले नहीं थे. लेकिन जब गद्दाफी को पकड़ लिया गया और उसे गिरफ्तार कर ले जा रहे थे तब उसे बहुत पीटा गया, उसका पूरा शरीर लहू-लुहान हो गया और शरीर से अत्याधिक रक्तस्त्राव होने की वजह से गद्दाफी की मौत हो गई.


gadaffi

महमूद जिबरिल का कहना है कि जब गद्दाफी को गिरफ्तार कर गाड़ी में उसे ले जा रहे थे तब गद्दाफी समर्थकों और एनटीसी जवानों के बीच गोलीबारी हुई जिसमें से एक गोली गद्दाफी के सिर पर आ कर लग गई और उसकी मौत हो गई.



गद्दाफी की बेहद नृशंस और अमनावीय तरीके से हुई हत्या के ना जाने कितने ही वीडियो इंटरनेट पर उपलब्ध हैं जिसमें उसके शरीर से खून बहता हुआ और वह तड़पता हुआ दिखाई दे रहा है लेकिन उसे मारने वालों की रूह उसकी हालत देखकर भी नहीं कांपी. लीबिया की अंतरिम सरकार ने यह निश्चय किया कि उसके शव को कुछ दिनों के लिए पब्लिक डिस्प्ले के लिए रखा जाएगा ताकि सभी को उसकी मौत का यकीन हो जाए. 24 अक्टूबर, 2011 तक गद्दाफी के शव को मिसराता में एक फ्रीजर के अंदर रखा गया और इसके बाद मिसराता के ही रेगिस्तान में उसे दफ्न कर दिया गया.



gaddafi

गद्दाफी का जीवन और उसका शासनकाल तो विवादों में था ही लेकिन उसकी मौत की वजह पर भी तब प्रश्नचिह्न लग गया जब सितंबर 2012 में ये रिपोर्ट आई कि गद्दाफी की मौत एक फ्रेंच जासूस के हाथों तब हुई, जब वह एनटीसी के जवानों की पकड़ में आ गया था. वहीं एक दूसरी रिपोर्ट में ये था कि 66 समर्थकों के साथ गद्दाफी को भी फांसी पर लटका दिया गया था.


Read:

नो ऑफेंस प्लीज: इस चुनावी संग्राम में सोशल मीडिया पर नेताओं की कैसे-कैसे खिल्ली उड़ाई गई, देखिए और मजा लीजिए

अगर ये नेता नहीं होते तो सलमान खान कई शादियां कर चुके होते, जानिए आखिर क्यों अब तक सलमान खान शादी नहीं कर पाए

तो ये है बीजेपी को बहुमत मिलने का सबसे खास कारण


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग