blogid : 9545 postid : 1325284

...वे गुलमोहर से झरते गए

Posted On: 17 Apr, 2017 Others में

V2...Value and Visionextremely CRUDE ; completely PURE

yamunapathak

253 Posts

3036 Comments

1)
…वे गुलमोहर से झरते गए

पत्थर बंदूक बारूद और दरमियां बढते गए
जमीं के नक्शे सुर्ख हो इतिहास रंगते गए ।
जिंदगी और मौत बीच आशियां उजड़ते गए
कुदरत सिसक रही वे गुलमोहर से झरते गए ।

2)

रंजिश की बर्फ

अब तक पिघली नहीें
रंजिश की बर्फ
क्यों हुआ इतना सर्द
कश्मीर का दर्द ।

रफ्ता रफ्ता चुका रहे
बहते लहू से कर्ज
हौले हौले पड़ते पन्ने
इतिहास के जर्द ।

कौन से पन्नों से फिर
जमीं जन्नत की सुर्ख
सरहद पार से आते
कश्मीर मेे दहशत गर्द ।

रूठो न मुझसे बाबू जी
करती थी कली अर्ज
गमगीन तराने से
कुदरत निभा रही फर्ज ।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग