blogid : 5476 postid : 63

वो पागल सा एक लड़का ........

Posted On: 28 Sep, 2011 Others में

kahi ankahiJust another weblog

yogi sarswat

66 Posts

3690 Comments

वो पागल सा एक लड़का जो देख के मुझको हँसता था |
बाहर से मुझे नफरत थी पर दिल में मेरे बसता था ||
दर्द छुपाकर जीना उसकी एक पुरानी आदत थी
अन्दर अन्दर रोता था बाहर बाहर हँसता था ||
कैसे पूंछू , किससे पूंछूं क्यों नहीं देता अब वो दिखाई
… रोज़ गुज़रता था वो इधर से उसका ये रस्ता था ||
क्यों ठुकराया मांग के उसको , सोच के अब पछताती हूँ
दिल के बदले दिल माँगा था , सौदा कितना सस्ता था ||

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग